Sunday, 12 March 2017

Hindu Dharm Darshan 48


मानव की मुक्ति 

इस्लाम और क़ुरान पर मेरा बेलाग तबसरा और निर्भीक आलोचना को पढ़ते पढ़ते , मेरे कुछ मित्र मुझे समझने लगे कि मैं हिन्दू धर्म का समर्थक हूँ मेरी हकीक़त बयानी पर वह मायूस हुए और आश्चर्य में पड गए . लिखते हैं- 
"आपसे मुझको ऐसी उम्मीद नहीं थी ."
 मेरे "कश्मीरी पंडितो "और दूसरे उन लेखों  पर जो उनके मर्ज़ी के मुताबिक न हुए .
अपने ऐसे मित्रों से मेरा निवेदन है कि मैं इस्लाम विरोधी  हूँ, वहां जहाँ होना चाहिए ,
और क़ुरान की उन बातों से सहमत नहीं जो इंसानियत विरोधी हैं , 
मैं उन नादान मुसलामानों का खैर ख्वाह हूँ  जो क़ुरान पीड़ित हैं .
इसी तरह मैं हिदू जन साधारण का दोस्त हूँ जो धर्म के शिकार हैं.
मैं हर धर्म को बुरा मानता हूँ . 
कोई ज्यादह बुरा हैं कोई कम बुरा ..
 मेरे मित्र गण अगर सत्य पर पूरा पूरा विशवास रखते हो तभी मेरे दोस्त रह सकते है .
झूट और पाखंड के पुजारियों को मैं दोस्त रखना पसंद नहीं करूंगा .
जो लौकिक सत्य पर ईमान रखता है  वही मोमिन है वही महा मानव है  , 
हिन्दू और मुसलमान खुद को बदलें और पुर अम्न इंसानियत की राह पर आ जाएं , देश को ऐसे वासियों की ही ज़रुरत है ,
इसी में मानव की मुक्ति हैं .
*****

जीम 'मोमिन' निसारुल-ईमान

1 comment:

  1. धरती का हर धर्म बकवास है, और उसके सिवा कुछ नही. दो हजार साल पुराने बोले-बताए गए बकवासों को, जब मानवता के नाम पर ज्ञान शून्य था, पाखंड और अंधविश्वास था, तब की कही गई मूर्खता भरी बातों को आधुनिक मानव धर्म, ईश्वर और स्वर्ग-नरक के नाम पर क्यों और कैसे ढो रहा है यह समझ से परे है. आप जैसे लोगों को साधुवाद जो कि अपनी जान जोखिम में डालकर ज्ञान बांटते हैं और अंधविश्वासों को दूर करने का प्रयास हर संभव प्लेटफ़ॉर्म पर करते हैं. पुनः धन्यवाद. आने वाला समाज आप लोगों का ऋणी रहेगा.

    ReplyDelete